जीवन में खुश रहना भी एक कला होती है और वो भी व्यक्ति इस कला को सीख लेता है वो अपने जीवन में जरुर ही सफल हो जाता है और वही एक प्यारी सी मुस्कान मानसिक तनाव से मुक्ति पाने में आपकी बहुत मदद कर सकती है और इसलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे मजेदार जोक्स लेकर आये हैं जो आजकल सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंडिंग हैं ,तो देर किस बात की है, चलिए शुरू करते हैं हंसने-हंसाने का ये सिलसिला.

पप्पू की बीवी को डाकू उठाकर ले गए..
पप्पू अपनी बीवी को छुड़ाने जाने लगा तो
गांव वालों ने कहा- “खाली हाथ क्यों जा रहे हो..?”
ये सुनकर पप्पू ने दो किलो सेब ले लिए..!

पप्पू (अपने पापा संता से)- पापा मुझे 180 सीसी पल्सर बाइक चाहिए….!
संता- बेटा तू 180 सीसी पल्सर ले
या 350 सीसी बुल्ट,
पीछा तो तुमने
100 सीसी स्कूटी का ही करना है….!

पत्नी- सुना है कि जन्नत में पति के साथ पत्नी को नहीं रहने देते?
पति- बिल्कुल सही सुना है आपने.!
पत्नी- ऐसा क्यों.?
पति- अरे पगली इसलिए तो उसे…
जन्नत कहते हैं.!!

टीचर- टेबल पर चाय किसने गिराई..?
इसे अपनी मातृभाषा में अनुवाद करो..!
छात्र- मातृभाषा मतलब मम्मी की भाषा.?
अध्यापक- हां….!छात्र- अरे कमीने… कर दिया ना धुली चादर का सत्यानाश…
पड़ गई ना दिल को शांति…
अब आने दो तेरे बापू को, वही धोएगा चादर को..!!

आदमी शादी के पहले शेर होता है तो फिर शादी के बाद
अरे भाई शेर तो शेर ही रहेगा…
शादी के पहले भी और बाद भी…
तो फिर फर्क क्या हुआ ?
फर्क सिर्फ इतना कि,
शादी के बाद उस शेर पर दुर्गा बैठ जाती है

आज का ज्ञान
ये जो तुम भंडारे में बैठकर…
खाते हुए रायते वाले को आता देखकर…
जल्दी से रायता पी लेते हो…!
शास्त्रों में इसे भी “छल” कहा गया है…!

कल गुप्ताजी मॉल में चप्पल खरीदने गये तो…. दुकानदार ने पहले
उनके पैर सेनिटाइजर से साफ़ किये…. फिर साबुन से पैर धोये, टावल से पैर पोछें। फिर चप्पले पहनाई….!
गुप्ता जी ने चुपचाप पैसे दिए और जाने लगे…..
दुकानदार ने पूछा- कुछ और लेना है क्या……?
गुप्ताजी ने बोला- खरीदना तो अंडरवियर भी था….
लेकिन आपकी सेवा देख कर खरीदने का इरादा केंसिल कर दिया….!

पप्पू – यार, लोग कहते हैं कि ठोकरें इंसान को चलना
सिखाती हैं…
गप्पू – हां, सही बात है..!
पप्पू – पर मेरे तो पैर के अंगूठे का नाखून ही
टूट गया ना…!

बहू जीन्स पहनकर जैसे ही घर से बाहर जाने लगी…
सास मुंह चमकाते हुए बोली – क्या जमाना है…
बहू तुरंत बोली – दही जमा लेना मां जी…!
फिर हो गई महाभारत शुरू…!

पतियों को दुख इस बात का नहीं होता है कि श्रीमती घर का काम करवाती हैं
तकलीफ ये है कि काम हो जाने के बाद
सहेली से फोन पर कहती हैं –
ये आदमी किसी काम का नहीं है।

जेलर – कल तुम्हें फांसी होगी…,
बताओ तुम्हारी अंतिम इच्छा क्या है?
कैदी – मैं तरबूज खाना चाहता हूं।
जेलर – लेकिन ये तरबूज का मौसम नहीं है।
कैदी – कोई बात नहीं, मैं इंतजार कर लूंगा।

पुलिस इंस्पेक्टर – तुमने बक्सा चुराया पर पास
पड़ी नोटों की गड्डी छोड़ी दी।
चोर – साहब पर FIR में इसका जिक्र मत करना।
इंस्पेक्टर – क्यों?
चोर – मेरी इस चूक के लिए पिताजी मुझे मारेंगे।

Girlfriend को अपनी पलकों पर बिठा लो…
देकर हर ख़ुशी उसको….
उसके सारे गम चुरा लो….!
प्यार करो उसको उसकी सहेली के सामने इतना कि….
उसकी सहेली भी कहे….. जानू मुझे भी पटा लो….!!

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *